LATEST BLOG

सबलोग यहाँ बोलते ही हैं

लेकिन ये अजीब ही बात है कि सबलोग यहाँ बोलते ही हैं, या बोलते रहना चाहते हैं। बोलने वाला सुनना नहीं चाहता, अब वो जमाना नहीं रहा जब लोग बोलते भी थे...

एक युग का अन्त

ज्योति बसु का न होना एक युग का अंत है। जब ऐसे लोग जो अपने सिद्धान्तों व वसूलों के लिए जीवन भर लड़ते रहे, कभी समझौता नहीं किया-- जब नहीं रहते तो...

स्त्रियां

एकइतिहास के जौहर से बच गई स्त्रियांमहानगर की अवारा गलियों में भटक रही थींउदास खुशबू की गठरी लिएउनकी अधेड़ आँखों में दिख रहा थाअतीत की बीमार रातों का भयअपनी पहचान से बचती...

यह समय और हम

यह समय मौकापरस्तों और सट्टेबाजों का समय है। इस समय सबसे ज्यादा खतरा हमारे संस्कृति को है। यह इसलिए कि कभी हमारी संस्कृति की जान समझे जाने वाले जीवन मूल्य आज बेमानी...

अर्थ-विस्तार

जब हम प्यार कर रहे होते हैंतो ऐसा नहीं कि दुनिया बदल जाती हैबस यहीकि हमें जन्म देने वाली मां केचेहरे की हंसी बदल जाती हैहमारे जन्म से ही पिता के मन...

कविता

जैसे एक लाल-पीलीतितलीबैठ गई होकोरे कागज पर नीर्भिकयाद दिला गई होबचपन के दिन....

वैसे ही आऊँगा

मंदिर की घंटियों की आवाज के साथरात के चौथे पहरजैसे पंछियों की नींद को चेतना आती हैकिसी समय के बवडर मेंखो गएकिसी बिसरे साथी केजैसे दो अदृश्य हाथउठ आते हैं हार गए...

Page 24 of 24 1 23 24